Mustard MSP: सरसों के रेट में आया उछाल, क्या सरसों बिकेगी MSP रेट से ऊपर, जाने पूरी जानकारी

Mustard MSP:- सरसों के रेट में आया उछाल, क्या सरसों बिकेगी MSP रेट से ऊपर, जाने पूरी जानकारी। पिछले सप्ताह सरसों की कीमतों में तेजी देखने को मिली थी। इस न्यूज़ के माध्यम से हम जानेंगे कि सरसों की कीमत क्या MSP से ऊपर जा सकती है। देखें तेजी मंदी की रिपोर्ट

सरसों की तेजी मंदी

किसान साथियों पिछले सप्ताह को जयपुर मंडी में सरसों कंडीशन की कीमत 5425 रूपये प्रति क्विंटल से शुरू हुई। जो कि सप्ताह के अंतिम दिन शनिवार को 5550 रुपए प्रति क्विंटल तक बंद हुआ। देखा जाए तो पिछले सप्ताह में सरसों के रेट में 125 रुपए प्रति क्विंटल तक तेजी देखी गई है।

इसमें सरसों की दैनिक आवक मंडियों में लगभग 14 से 15 लाख बोरी के आसपास हो रही है। हालांकि फिर भी सरसों के रेट में अभी तक कोई ज्यादा दबाव देखने को नहीं मिल रहा है। खाद्य तेलों की कीमतों में तेजी होने से सरसों की कीमत में तेजी देखने को मिली है। पिछले वर्ष के दौरान भी ऐसा ही कुछ देखने को मिला था।

Read More: Nokia C12 Pro: गरीबों का मसीहा बनकर आया Nokia का यह कम कीमत वाला Smartphone, फीचर्स और कैमरे के साथ जाने कीमत

सरसों के रेट पिछले वर्ष 2023 में फरवरी माह के अंत से लेकर अप्रैल के शुरू में लगभग 375 के आसपास तक तेजी बनी थी। इस प्रकार वर्ष 2024 में भी फरवरी से लेकर अब तक लगभग ₹200 प्रति क्विंटल तक तेजी आई है। पिछले वर्ष के मुकाबले इस बार सरसों की कीमत में 150 से 175 रुपए प्रति क्विंटल तक तेजी रही है।

बता दे कि पिछले साल सरसों की कीमत में महीने में गिरावट के पश्चात जून से लेकर अगस्त महीने की बीच लगभग 950 से ₹1000 प्रति क्विंटल तक तेजी देखने को मिली। तेजी के समय जिन व्यापारियों ने सरसों का स्टोक किया था। उनको बाद में भी ज्यादा भाव नहीं मिले। जिस कारण निकले सत्र में भी तेजी के पश्चात अधिक ज्यादा मुनाफा देखने को नहीं मिला।

Read More:Funny Joke: बोरिंग जिंदगी में हसी के ठहाके लगा देंगे ये अजब गजब चुटकुले, पढ़े यह मजेदार चुटकुले

ऐसे में लग रहा है कि सरसों में तेजी फंडामेंटल के चलते नहीं है। बल्कि सोया तेल और पाम तेल में आए तेजी के चलते सरसों की कीमत में उछाल देखने को मिला है। सरसों की कीमतों में तेजी उत्पादन व डिमांड के ऊपर निर्भर करती है। अभी तक इसका सही आकलन करना बाकी है। इस बार उत्पादन उछाल के साथ 130 लाख टन के स्तर तक पहुंचाने का अनुमान है। इसलिए अभी तक यह देखना जरूरी है कि इस वर्ष सरसों का उत्पादन कहां तक रह सकता है। जिसके आकलन होने के पश्चात ही सरसों भाव का आकलन किया जा सकता है।

Leave a Comment