Lemon Farming Full Detail: गर्मियों में रहती है इस फल की हाई डिमांड! बिकता है सोने के भाव कर देंगे मालामाल, आज ही शुरू करे इसकी खेती

Lemon Farming Full Detail: गर्मियों में रहती है इस फल की हाई डिमांड! बिकता है सोने के भाव कर देंगे मालामाल, आज ही शुरू करे इसकी खेती, गर्मी का मौसम शुरू होने वाला है ऐसे में सभी को निम्बू पानी की जरूरत पड़ती है अगर आप भी खेती करने के बारे में सोच रहे है तो हम आपके लिए लेकर आये है फायदे का सौदा जिससे आप लाखो रूपये कमा सकते है। नींबू (Lemon) एक बहुमुखी फल है जो खाने, पीने, और सफाई के लिए इस्तेमाल होता है। इसकी खेती भारत में कई राज्यों में सफलतापूर्वक की जाती है। तो चलिए जानते है निम्बू की खेती के बारे में सम्पूर्ण जानकारी।

Read More: Nissan Magnite SUV: ऑटोसेक्टर में आ गई हुड़दंग मचाने 40 से ज्यादा सेफ्टी फीचर्स वाली धाकड़ SUV, जबरदस्त लुक और फीचर्स के साथ जाने कीमत

नींबू की खेती: अलग-अलग किस्मे

कागजी नींबू: यह सबसे लोकप्रिय किस्म है, जिसमें रस की मात्रा अधिक होती है।

संतरा नींबू: यह किस्म मीठी होती है और इसका उपयोग जूस और सलाद में किया जाता है।

मौसमी: यह किस्म सर्दियों में फल देती है और इसका छिलका मोटा होता है।

गौला: यह किस्म साल भर फल देती है और इसका आकार छोटा होता है।

कैसे करे रोपण

निम्बू की खेती कई प्रकार से की जा सकती है जैसे बीज, कलम या बुवाई से की जा सकती है। अगर आप कलम और बुवाई से करते है तो आपको निम्बू के पौधे जल्दी प्राप्त होते है। इसकी रोपण के लिए आपको 1 मीटर गहरा और 1 मीटर चौड़ा गड्ढा खोदना पड़ेगा जिसमे आपको गोबर की खाद और रासायनिक उर्वरक डालना पड़ेगा और फिर बाद में इस पौधे को रोपना पड़ेगा। फिर पानी देना होगा।

नींबू की खेती: खाद और सिंचाई

निम्बू के पौधों को समय-समय खाद देना जरुरी है जिससे कि इसकी उत्पादन में कोई कमी न आये। इसके अलावा इसमें गोबर की खाद, नीम की खली और रासायनिक उर्वरक का प्रयोग खाद के रूप में कर सकते है। इनकी सिचाई समय-समय पर होनी चाहिए। और खासकर गर्मी के हफ्ते में दो बार और ठण्ड में 10 दिनों में एक बार सिंचाई करें।

नींबू की खेती में समय-समय पर करे कीटनाशक का प्रयोग

इन पौधों में जल्दी रोग और कीड़े लग जाते है जिससे कि आपका पौधा नष्ट हो सकता है जिसके लिए आपको इसका ध्यान रखना होगा और समय-समय पर कीटनाशक डालना होगा। निम्बू के पौधो में पत्ती का रोग, नींबू का कैंकर, और नींबू का छिलका जैसे रोग हो जाते है। रोग और कीटों से बचाव के लिए जैविक और रासायनिक तरीकों का उपयोग करे।

कितने दिनों में होती है तैयार?

रोपण करने के लगभग 6-8 महीने बाद पौधों पर फल आना चालू हो जाते है। जिससे आपको फल मिलना चालू हो जायेगे। जिसे आप हाथ से तोड़कर कटाई कर सकते है। अगर हम निम्बू की औसतन उपज की बात करे तो यह 20-30 टन प्रति हेक्टेयर उत्पादन करती है।

Leave a Comment