Gehu MSP Rate: मार्केट में गेहूं के दामों में हुआ बदलाव गेहूं 3000 तक पहुंचा, आगे भी बढ़ सकते है दाम? 

Gehu MSP Rate:- किसान साथियों गेहूं का भाव फिलहाल बाजार मंडी भाव में (MSP Rate) न्यूनतम समर्थन मूल्य से ऊपर चल रहा है। मध्य प्रदेश की मंडियों में गेहूं की आवक शुरू हो चुकी है। हर रोज नए गेहूं की आवक हो रही है। किसानों को कुछ मंडियों में काफी अधिक भाव मिल भी रहे हैं।

फ़िलहाल गेहूं का भाव क्या है?

इस साल सरसों की न्यूनतम समर्थन मूल्य 5650 रुपए प्रति क्विंटल किया गया है। चना का न्यूनतम समर्थन मूल्य 5440 रुपए प्रति क्विंटल है। गेहूं का भाव न्यूनतम समर्थन मूल्य 2275 रुपए प्रति क्विंटल किया गया है। कुछ राज्यों में एमएसपी के साथ साथ बोनस देने की घोषणा भी की गई है। राजस्थान में 125 रुपए का बोनस और एमपी मध्य प्रदेश में 125 रुपए के बोनस की घोषणा भी की गई है।

गेहूं में तेज़ी मंदी की रिपोर्ट क्या है?

फिलहाल बाजारों में गेहूं की कमी चल रही है। मध्य प्रदेश और राजस्थान की मंडियों में नए गेहूं की आवक शुरू हो चुकी है। काफी किसान अपनी गेहूं की फसल को मंडियों में लेकर आ रहे हैं। देश की लगभग सभी मंडियों में गेहूं का भाव एमएसपी रेट से ऊपर मिल रहा है। मध्य प्रदेश की मंडियों में गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य 2275 रुपए ओर 125 रुपए बोनस के अनुसार 2400 रुपए प्रति क्विंटल है।

Read More: Vivo V26 Pro: पापा की परियो के होश उड़ाने आया Vivo का धाकड़ फोन, HD कैमरा के साथ फीचर्स भी लाजवाब, जाने कीमत!

लेकिन मध्य प्रदेश की मंडियों में किसानों को गेहूं का भाव न्यूनतम समर्थन मूल्य से अधिक मिल रहा है। कुछ मंडियों में गेहूं का भाव 2800 रुपए प्रति क्विंटल से 3000 रुपए प्रति क्विंटल तक किसानों को मिल रहा है।

गेहूं के भाव में आ सकती इतनी तेजी

फिलहाल गेहूं के भाव में काफी तेजी चल रही है। किसान को अच्छे भाव मिल रहे हैं। सरकार के द्वारा 31 मार्च तक स्टॉक लिमिट लगाई हुई है। क्या 31 मार्च के बाद यह स्टॉक लिमिट हटाई जाएगी। क्योंकि फिलहाल जिस अनुसार स्टॉक लिमिट तय है। उतनी खरीद तो मंडी में व्यापारी एक दिन में ही पूरी कर रहे हैं। हमे नहीं लगता की स्टॉक लिमिट को बढ़ाया जाएगा।

Read More: Maruti Suzuki Fronx: Maruti ने सबसे सस्ती कार की पेश, माइलेज में सबकी बाप, तगड़े फीचर्स के साथ जाने पॉवरफुल इंजन और कीमत

देश की सभी मंडियों में गेहूं के भाव में तेज़ी बनी हुई है। अभी तक कुछ राज्यों हरियाणा पंजाब से गेहूं की नई आवक नही हो रही है। क्योंकि इस साल कटाई 10 से 15 दिन लेट शुरू होने के बारे में जानकारी दी गई है। जैसे ही अप्रैल के महीने में गेहूं की फसल की आवक अधिक होने लगेगी। गेहूं भाव में हल्का दबाव बन सकता है। जानकारो व विशेग्यो की राय मानी जाए तो इस साल गेहूं भाव में तेज़ी बनी रहने की उम्मीद है।

Leave a Comment