Cardamom Cultivation: इलायची को कहा जाता है मसालों की रानी जोकि बिकती है हजारों रूपए की 1 किलों, जाने खेती का तरीका

Cardamom Cultivation:- इलायची को कहा जाता है मसालों की रानी जोकि बिकती है हजारों रूपए की 1 किलों, जाने खेती का तरीका, इलायची को “मसालों की रानी” भी कहा जाता है, एक लोकप्रिय और महंगा मसाला है। इसकी खेती भारत, श्रीलंका, और ग्वाटेमाला जैसे देशों में की जाती है। इलायची की खेती करना थोड़ा मुश्किल हो सकता है, लेकिन यह लाभदायक भी हो सकता है। अगर आप भी इसकी खेती करना चाहते है तो आज हम आपको बताने वाले इलाइची की खेती के बार में पूरी जानकारी

इलायची की खेती के बारे में पूरी जानकारी

जलवायु :- इलायची को गर्म और नम जलवायु की आवश्यकता होती है। यह 10 डिग्री सेल्सियस से 30 डिग्री सेल्सियस के तापमान में अच्छी तरह से बढ़ता है।

मिट्टी :- इलायची को अच्छी जल निकासी वाली, दोमट और उपजाऊ मिट्टी की आवश्यकता होती है। मिट्टी का पीएच मान 6.5 से 7.5 के बीच होना चाहिए।

रोपण :- इलायची को बीज या रोपण सामग्री से उगाया जा सकता है। रोपण सामग्री खरीदते समय, सुनिश्चित करें कि यह स्वस्थ और रोग-मुक्त है।

कटाई :- इलायची की फसल 3-4 साल बाद तैयार हो जाती है। फल को तब काटा जाता है जब यह हरा और मुलायम होता है।

Read More: Realme 10 Pro 5G: स्टाइल और Speed का जबरदस्त मिश्रण है Realme का धांसू 5G Smartphone, कड़क कैमरा क्वालिटी के साथ है लाजवाब फीचर्स

सूखना :- इलायची को धूप में या कृत्रिम ड्रायर में सुखाया जाता है।

उपज :- इलायची की उपज प्रति हेक्टेयर 1-2 टन हो सकती है।

लागत :- इलायची की खेती में काफी लागत आती है। इसमें रोपण सामग्री, उर्वरक, कीटनाशक, और सिंचाई की लागत शामिल है।

लाभ :- इलायची की खेती काफी लाभदायक हो सकती है। इलायची की कीमत बाजार में काफी अच्छी है।

Read More: Doctor Gulati’s Wife: डॉ मशहूर गुलाटी की पत्नी दिखती है हुस्न की मल्लिका, हॉटनेस और चंचलता से करती है लाखों दिलो पर कब्ज़ा

खेती करते समय रखे इन बातो का ध्यान

इलायची को छायादार जगह पर उगाना चाहिए।

इलायची को नियमित रूप से सिंचाई की आवश्यकता होती है।

इलायची को उर्वरक और कीटनाशकों की आवश्यकता होती है।

इलायची को रोगों और कीटों से बचाना महत्वपूर्ण है।

Leave a Comment