Black Potato Cultivation: काले आलू की खेती कर देगी लाखों किसानों को कम समय में मालामाल, जाने इसकी खेती से जुड़ी सम्पूर्ण जानकारी

Black Potato Cultivation:- काले आलू की खेती कर देगी लाखों किसानों को कम समय में मालामाल, जाने इसकी खेती से जुड़ी सम्पूर्ण जानकारी, भारत देश में सब क्षेत्रो में खेती करते है, क्षेत्रो की जलवायु, मिटटी के हिसाब से फसलों का चयन करते है और उन्नत खेती को बढ़ावा देते है, सब जगहों पर कुछ मुख्य फसले उगाई जाती है, इसमें गेहू,चना,अरहर आदि, इसी प्रकार हरी सब्जिया भी उत्पादित की जाती है, इन्ही सब फसलों के साथ ही काले आलू की खेती किसानो की अच्छी आय का रिश्ता बन सकती है। आइए अब आपको इस खेती बारे में विस्तार से बताते है।

काले आलू के जबरदस्त लाभ

काले आलू शरीर के लिए बहुत ही फायदेमंद साबित हो सकता है। विभिन्न विटामिनो की मौजूदगी के चलते इस आलू को स्वस्थ्य के लिए फायदेमंद कहते है। जिसका इस्तेमाल मटर, गाजर, मेथी, पत्तागोभी में करते है, इसलिए इसके पकौड़े और समोसे भी तैयार कर सकते हैं, संतरे में मौजूद सब विटामिन काले आलू में मौजूद होते हैं। इसलिए यह स्वस्थ्य के लिए अच्छा कहा जाता है। यह आपकी सेहत के लिए बहुत अच्छे होते है।

Read More: Sourav Ganguly’s Daughter: हुस्न की किसी मलिका से कम नहीं दिखती क्रिकेटर सौरव गांगुली की बेटी, फिटनेस और हॉटनेस में देती है मलाइका को टक्कर, देखें खूबसूरत तस्वीरें

इन स्थानों पर होती है काले आलू की खेती

देश में बड़े स्तर पर काले आलू की खेती की जा रही है। पहले इसकी खेती अमेरिका में होती थी लेकिन अब मध्य प्रदेश, ओडिशा, असम, बिहार, उत्तराखंड, असम, महाराष्ट्र, हरियाणा, दिल्ली और उत्तर प्रदेश में हो रही है, अच्छे उत्पादन के लिए काले आलू की खेती ठंडी जलवायु में की जाती है, अगर आप भी इस रबी सीजन में इसकी खेती करना चाहते हैं तो नवंबर का महीना समय के हिसाब से उपयुक्त है। इस माह में इसकी बुआई करके आप अच्छी पैदावार प्राप्त कर सकते हैं। इसके अलावा अगर आप इसकी खेती बलुई दोमट मिट्टी में करते हैं। जिसके बाद यह इसकी खेती आपको अच्छा मुनाफा देगी।

Read More: Maruti Suzuki Fronx: Creta के जीवन में भूचाल मचाने आ गई Maruti की ढिंचक कार, ताकतवर इंजन के साथ मिलते है गजब के फीचर्स

काले आलू की खेती कैसे करें

काले आलू के अच्छे उत्पादन के लिए खेत की मिट्टी नरम और भंगुर होना आवश्यक है साथ ही बुवाई से पूर्व खेत की गहरी जुताई कर आवश्यक है। इसके बाद खेत में रोटावेटर चलाकर मिट्टी को पूरी तरह से भर देना होगा इससे अब आप आलू लगा दे और इसके लिए पंक्ति से पंक्ति तक डेढ़ फुट की दूरी रखना आवश्यक है। पौधों के बीच की दूरी 6 इंच होनी चाहिए। इसके बाद समय-समय पर सिंचाई और निदाई गुड्डी के बाद, फसल के फूल आने से पहले, हल से पौधों पर मिट्टी लगानी होती है।

Leave a Comment