Betel Nut Cultivation: किसानों के लिए कमाई का जरिया बनी है सुपारी की खेती, जाने इसकी सम्पूर्ण जानकारी

Betel Nut Cultivation:- किसानों के लिए कमाई का जरिया बनी है सुपारी की खेती, जाने इसकी सम्पूर्ण जानकारी, सुपारी एक उष्णकटिबंधीय फल है जो एशिया और प्रशांत महासागर के क्षेत्रों में उगाया जाता है। सुपारी की खेती भारत, इंडोनेशिया, श्रीलंका, और फिलीपींस में सबसे अधिक की जाती है। ऐसे में अगर आप भी लम्बे समय के लिए खेती पर आश्रित रहना चाहते है। आइए इसके बारे में कुछ जरुरी चीजे जान लेते है।

सुपारी की खेती के लिए जलवायु?

सुपारी की खेती करने के लिए आपको कुछ बातो का ध्यान रखना होता है जैसे यहां उष्ण और आर्द्र जलवायु सबसे ज्यादा जरुरी होती है। यहां तापमान 20 डिग्री सेल्सियस से 30 डिग्री सेल्सियस के बीच होना जरुरी है। इसकी फसल के लिए वर्षा 1500 मिमी से 2000 मिमी के बीच होना जरुरी है।

सुपारी की खेती के लिए उपयुक्त मिट्टी

सुपारी की खेती के लिए आपको अच्छी जल निकासी वाली दोमट मिट्टी चाहिए। यहां मिट्टी का पीएच 6.0 से 7.0 के बीच होना जरूरी है।

Read More: Hero Passion XTEC: Hero की झन्नाट Passion XTec बाइक आई मार्केट में अपना राज्य स्थापित करने, देखें बवंडर फीचर्स और कीमत

सुपारी की खेती का रोपण कैसे करें

सुपारी की खेती के लिए आपको बीज या रोपण सामग्री का इस्तेमान कर सकते है। इसके बीज से रोपण करने में 7-8 साल लग जाते हैं, वही रोपण सामग्री से रोपण करने में 4-5 साल लग जाते हैं। इसकी रोपण सामग्री को 8 मीटर x 8 मीटर की दूरी पर लगाते है।

सुपारी की खेती की देखभाल कैसे करें

सुपारी के पौधों को रोज पानी देना जरुरी होता है। इसके पौधों को खाद और उर्वरक भी देना बहुत आवश्यक है। इन पौधों को कीटों और रोगों से बचाना बहुत जरुरी है।

Read More: Vivo V29e 5G: OnePlus की चमक-धमक को फीका करेगा Vivo का तगड़ा 5G स्मार्टफोन, टॉप कैमरा क्वालिटी देख लड़किया हुई फ्लैट

सुपारी की खेती में फसल कितने दिन में तैयार होती है?

सुपारी के पौधे लगभग 5-6 साल में फल देना शुरू कर देते हैं। यह एक पौधे से 100-150 किलोग्राम फल हर साल प्राप्त होता है। यह लगभग फल 12-18 महीने में पक जाते है।

सुपारी की खेती से मुनाफा

सुपारी की खेती से बहुत लाभ मिलता है। सुपारी की बाजार में बहुत ज्यादा डिमांड रहती है। सुपारी का इस्तेमाल कई औषधियों और खाद्य पदार्थों में करते है।

Leave a Comment